कैब ड्राइवर के लंड को आइसक्रीम की तरह चूसकर चूत चुदवाई

Sex Kahani, Hot Sexy Story, XXX Story, Adult Story, रोजाना पढ़िए हिंदी में हॉट चुदाई की कहानियां
loading...

Cab Driver Sex Story, Driver Sex Story, Car Driver Sex Story, Cab Sex Story in Hindi, Cab Driver Se Chudai, Hindi Chudai ki Kahani, Real Sex Story Driver

loading...

सभी दोस्तों को चूत दिखाकर नमस्कार करती हूँ। नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम के माध्यम से आप सभी को अपनी स्टोरी सुना रही हूँ। कोई गलती हो जाए जो माफ़ करना। मेरी हिंदी जरा कमजोर है। आशा है की स्टोरी पढकर सभी लड़के लड़की झड़ जाएंगे अपनी अपनी चड्डियों में। स्टोरी आपको अच्छी लगेगी।

मेरा नाम वाटिका चौधरी है। मैं गुड़गांव में जॉब करती हूं। मेरी जॉब शिफ्ट अलग अलग टाइम की होती है। कई बार मुझे रात की शिफ्ट में भी काम करना पड़ता है लेकिन कंपनी ने मेरी शिफ्ट टाइमिंग को देखते हुए मेरे लिए कैब का इंतज़ाम भी करवा रखा है।इसलिए रात में जब भी मेरी शिफ्ट लगती है तो मैं कंपनी की कैब से ही घर आती हूं।

यहां पर ग्रुप सोसायटी है जिसमें जगह-जगह ऊंची बिल्डिंग के फ्लैट्स बने हुए हैं। ये शहर रात के वक्त भी जगता हुआ दिखाई देता है इसलिए यहां पर मेरे घर वालों को भी मेरी जॉब से कोई प्रॉब्लम नहीं है। मेरे लिए शादी के कई रिश्ते आ चुके हैं लेकिन अभी मैं अपने करियर में और ऊंचाई तक पहुंचना चाहती हूं इसलिए शादी के लिए मना कर देती हूं। साथ ही मुझे एक हैंडसम लड़के की तलाश है जिसका लंड भी काफी तगड़ा हो। लेकिन मेरी ये ख्वाहिश अभी तक पूरी नहीं हो पाई है। क्योंकि मेरे पहले ब्यॉयफ्रेंड का लंड तो काफी मोटा था लेकिन वो देखने में कुछ खास नहीं था।

इसलिए मैंने अपने दोस्तों को भी उसके बारे में नहीं बताया था कि मैं किसी के लंड के नीचे से निकल चुकी हूं। क्योंकि अच्छा हैंडसम ब्यॉयफ्रेंड हो तो उसके साथ बाहर मस्ती करने का मज़ा ही अलग होता है। इसलिए मैंने पहले ब्यॉयफ्रेंड के बारे में किसी को नहीं बताया था। हां, जब भी मेरी चूत में खुजली होती थी मैं उसको फोन करके दो-चार मीठी बातें करके बुला लेती थी या उसके कमरे पर चली जाती थी।

लेकिन जल्दी ही मेरा मन उससे भर गया था इसलिए मैंने उसके साथ ब्रेक अप कर लिया था। अब मेरी चूत काफी दिनों से प्यासी ही थी। मन तो करता था कि उसको बुलाकर चूत की प्यास को बुझा लूं लेकिन सोचा कि एक बार बुला लिया तो कई दिन उससे पीछा छुड़ाना मुश्किल हो जाएगा, इसलिए मैं अपनी गरम चूत को अपनी पैनी उंगलियों से ही शांत कर लेती थी। लेकिन चूत मेरे इस बहकावे में ज्यादा दिन रह नहीं पाई। उसको तो लंड ही चाहिए था इसलिए अगले ही दिन फिर से मुंह फुलाकर खड़ी हो जाती थी।

मेरी फिगर के बारे में तो मैं बताना भूल ही गई। मेरी गांड तो ज्यादा लंबी चौड़ी नहीं है लेकिन मेरे दूध काफी मोटे हैं जिनको मैं अपने टॉप के अंदर बड़ी ही मुश्किल से संभाल पाती हूं। टॉप के ऊपर से उनकी दरार की गहरी खाई अच्छे-अच्छों को लार टपकाने पर मजबूर कर देती है। लेकिन अभी तक मुझे ऐसा कोई दमदार लंड नहीं मिला था जिसको मैं हमेशा के लिए अपना बनाने के बारे में सोच सकूं। वैसे भी अरेंज मैरिज में ये तो करना संभव नहीं था क्योंकि अरेंज मैरिज में लड़के की शक्ल तो देखी जा सकती है लेकिन उसका सामान देखने के लिए बहुत ही पापड़ बेलने पड़ते हैं इसलिए मैंने अपने घरवालों को कह रखा था कि मैं शादी करूंगी तो लव मैरिज ही करूंगी।

हाई सोसायटी की वजह से मेरे घरवालों को भी मेरे इस फैसले से कोई परेशानी नहीं थी। लेकिन पता नहीं रिश्तेदारों के दिमाग में क्या भूसा भरा होता है मुझे ये आज तक समझ नहीं आया। वो आए दिन मेरे लिए कोई न कोई रिश्ता लेकर आ जाते थे और मेरा जवाब सुनकर फिर अपना सा मुंह लेकर वापस चले जाते थे।

मैं रोज़ की इस चिक-चिक बाज़ी से परेशान होकर घरवालों को कई बार समझा चुकी थी कि अभी मुझे शादी की कोई जल्दी नहीं है। पहले मुझे अपने करियर पर फोकस करना है। लेकिन घरवालों को भी जैसे मेरे साथ मत्था मारने में मज़ा आता था। खैर, ये तो रोज़ की ही कहानी थी लेकिन  इसके साथ ही मेरी चूत भी मुझे परेशान करती रहती थी। कुछ दिन पहले की ही बात है कि मेरी नाइट शिफ्ट लग गई और ऑफिस टाइम शाम के 6 बजे से रात के 2 बजे तक का हो गया।

पहले दिन जब मैं घर जाने लगी तो कैब ड्राइवर को देखकर मेरी चूत ने अपना मुंह खोलकर एक आह… दे दी। वैसे तो कैब वाले मुझे पसंद नहीं आते थे लेकिन उस बंदे में कुछ अलग ही बात थी। देखने में हट्टा-कट्टा और तगड़ा था। लेकिन मैं अपनी तरफ से कोई इस तरह की पहल नहीं करना चाहती थी जिससे कि उसको शक हो जाए कि मैं उसकी तरफ आकर्षित हो रही हूं। इसलिए मैं चुपचाप उसको पीछे वाली सीट पर बैठकर फोन में लगी रहती थी। एक दिन की बात है जब मैं घर जा रही थी कैब वाले के फोन पर कॉल आती है। उसने जब बात करना शुरु किया तो पता चला कि कोई गांव का बंदा है और गुड़गांव में अपने दोस्तों के साथ रूम लेकर रह रहा है। उसकी बोली भी ठेठ गांव जैसी थी। मैंने सोचा कि शरीर से तो ये काफी रसीला है ही और हो सकता है कि इसका लंड भी काफी दमदार हो।

क्योंकि गांव वालों के लंड के बारे में कई कहानियां पढ़ी थीं जिनको पढ़ने के बाद मेरी चूत भी किसी गांव वाले के लंड का स्वाद चखना चाहती थी। इसलिए ना चाहते हुए भी मैंने उससे धीरे-धीरे बहाने से बात-चीत शुरु कर दी। उसका नाम अरविंद था। वो हरियाणा के ही एक जिले से यहां पर कैब ड्राइविंग की जॉब के लिए आया था और गुड़गांव में अपने दो दोस्तों के साथ रूम पर रहता था।

मैंने सोचा कि अगर रूम पर गई तो तीनों को खुश करना पड़ेगा और अगर कोई हरामी निकला तो क्या पता मेरी वीडियो बनाकर किसी साइट पर डाल दे। अब मैंने उसको अपनी मीठी-मीठी बातों के जाल में फंसाने का काम शुरु कर दिया। उसके साथ कई बार रात को आइस क्रीम खाने चली जाती तो कभी चाय पीने। धीरे-धीरे मैंने नोटिस किया किया कि वो भी मेरे दूधों का को नज़र चुराकर देख जाता था इसलिए उसकी कमजोरी मेरे हाथ लग गई थी। एक दिन की बात है जब मैंने जान बूझकर बहुत छोटा टॉप पहना जिसमें से लगभग मेरे आधे दूध बाहर ही झांक रहे थे।

उस दिन मैंने अरविंद को कहा-

“चलो, आज आइसक्रीम खाने चलते हैं”

“ठीक है वाटिका मैडम, लेकिन मैं अपना पर्स आज रूम पर ही भूल आया हूं”

“मैंने तुमसे कभी पैसे मांगे हैं क्या, तुम चलो तो सही, पैसे मैं दे दूंगी”

हम सड़क से गुजर रहे थे रास्ते में एक आइसक्रीम वाले को देखा तो गाड़ी साइड में लगाकर अरविंद आइसक्रीम लेने चला गया। मैं उतर कर अगली सीट पर आकर बैठ गई और अपने केंधे पर डाला हुआ स्टॉल भी उतारकर पीछे की सीट पर फेंक दिया। और सीट को पीछे झुकाते हुए आराम से लेट गई। पांच मिनट बाद जब अरविंद ने गाड़ी का दरवाजा खोलकर अंदर झांका तो उसकी नज़र सीधी मेरे टॉप से बाहर निकलने के उतावले हो रहे दूधों पर जाकर रुक गई।

मैंने हँसते हुए पूछा-

“बाहर ही खड़े होकर चाटोगे क्या..?”

“क्या..?”

उसके सवाल में सेक्स साफ झलक रहा था।

“आइसक्रीम, और क्या..”

वो हल्के से मुस्कुराते हुए अंदर आकर बैठा और एक आइसक्रीम मेरे हाथ में थमा दी। मैं आइसक्रीम को जीभ निकालकर चाटने लगी जैसे किसी लंड को चाट रही हूं। मेरी ये हरकत वो देख रहा था। मैंने भी जान बूझकर आइसक्रीम को अपने दूधों पर गिरा लिया, और बोली

“ओह..शिट..अरविंद, देखो ना मेरी सारी आइसक्रीम गिर गई”

“मैं अभी साफ कर देता हूं..मैडम”

कहकर उसने रुमाल निकाला और मेरी दूधों पर से आइसक्रीम को पोंछने लगा, पोंछते उसके हाथ धीरे-धीरे मेरे दूधों को दबाने लगे और मैं भी उसके हाथों की पकड़ के मज़े लेने लगी।

मैंने अपना सीधा हाथ उसकी जांघ पर फेरना शुरु कर दिया और टटोलते हुए उसके खड़े हो चुके लंड को पकड़ लिया। उसके लंड पर मेरा हाथ जाते ही उसने मेरे टॉप से मेरे दूधों को आज़ाद करवा दिया और उनको बाहर निकालकर दबाते हुए चूसने लगा। मेरे मुंह से कामुक सिसकियां निकलना शुरु हो गईं। “आआआअह्हह्हह……..ईईईईईईई…….ओह्ह्ह्…….आहहहहहह……म्म्म्म्म्म्….” करती हुई मैं उसके लंड को सहलाने लगी और उसकी जिप को खोलकर अंदर से उसके लंड को बाहर निकाल लिया और उसके लंड को हाथ में लेकर उसकी मुट्ठ मारने लगी।

उसके शरीर की तरह ही काफी मोटा तगड़ा लंड था उसका। मैंने उसके होठों को चूसना शुरु कर दिया और उसके लंड को भी सहलाना जारी रखा।

अब उसने मेरी गर्दन नीचे ले जाकर मेरे होंठ अपने लंड पर रखवा दिए और मैं उसके लंड को आइक्रीम की तरह चाटने और चूसने लगी। बहुत दिनों के बाद लंड मिला था। मैं भी पूरे जोश में उसके लंड को चूसने लगी। उसके मुंह से कामुक सिसकियां निकलने लगीं। “ हूँउउउ……हूँउउउ….. हूँउउउ …..ऊ…..ऊँ……ऊँ…… सी….सी….सी….सी….. हा हा ह ओ हो ह……” करता हुआ वो भी मेरे मुंह में लंड को पेलने लगा।

अब उससे कंट्रोल नहीं हुआ और उसने मेरी वाली सीट पर मुझे लिटाकर मेरी पजामी को नीचे खींचा और मेरे होठों को चूसते हुए सीधे अपना लंड मेरी चूत में सेट करने लगा। मैंने भी उसको बाहों में भर लिया और लंड को अपनी चूत पर सेट करवा कर उसके होठों को फिर से चूसने लगी। उसने बिना देर किए मेरी चूत में लंड को पेल दिया। क्या दमदार लंड था अरविंद का। मज़ा आ गया अंदर जाते ही। मैं कुछ ही पल में जन्नत की सैर करने लगी। वो मेरे दूधों को मसलता हुआ मेरी चूत को चोदने लगा।

दोनों के मुंह से कामुक सिसकियां निकल रही थीं। “उई…..उई….उई……माँ…..ओह्ह्ह्ह माँ…….अहह्ह्ह्हह…….” “अरविंद चोदो मुझे और तेज़, मेरी चूत बहुत दिनों से प्यासी थी। आइ लव यू अरविंद..” कहते हुए मैं उसके जोश को बढ़ा रही थी। मेरी हर सिसकी के साथ उसकी स्पीड भी बढ़ रही थी। 15-20 मिनट तक उसने मेरी चूत को गाड़ी की सीट पर खूब रगड़ा और एकाएक उसकी स्पीड कम होने लगी। उसके मोटे लंड ने मेरी चूत में सिकुड़ना शुरु कर दिया। जब सेक्स की आग बुझ गई तो वापस उठकर फटाक से कपड़े ऊपर किए और उसने मुझे घर पर ड्रॉप कर दिया।

पति का लंड 2 इंच का था इस वजह से मैं ड्राइवर से फंस गई

Sex Kahani, Hot Sexy Story, XXX Story, Adult Story, रोजाना पढ़िए हिंदी में हॉट चुदाई की कहानियां
loading...

पति का लंड 2 इंच  का था इस वजह से मैं ड्राइवर से फंस गई हु

मेरे प्यारे दोस्तों, नमस्कार मैं किरण देवी, बत्तीस साल की हु, मैं अम्बाला में रहती हु, मैं अपने पति के साथ हु, मेरे माता पिता दोनों भटिंडा से है, मैं वही पली बढ़ी, फिर मेरी शादी हो गई. शादी के समय मेरी उम्र 28 साल थी. और मेरे पति की उम्र 29 साल, पति का अनिल सरदाना है. पति का बहुत बड़ा व्यापार है. मेरी दो दो फैक्ट्री है जो की तौलिया बनाने का काम करती है. किसी चीज की कमी आज तक मुझे नहीं हु. क्यों की मेरा मायका भी व्यापारी फैमिली से ही आता है. मेरी ज़िंदगी काफी खुशहाल थी. मेरे पति काफी अच्छे व्यबहार के इंसान है. पर आप सोच रहे होंगे की मैंने उनसे वफ़ा क्यों नहीं की. मैं क्यों वेवफा हो गई.

मेरी शादी जब हुई तो वो बॉक्सर थे, पंजाब में बहुत जाना माना नाम था उनका पर एक दुर्घटना ने मेरी ज़िंदगी बदल दी. शरीर में उनके काफी बदलाव आ गया, उसमे से एक उनका प्राइवेट पार्ट भी छोटा हो गया. करीब २ इंच का दिल्ली में कई जगह इलाज करवाने के बाद भी कुछ नहीं हुआ, वो नेक्स्ट मंथ अमेरिका जा रहे है. इलाज करवाने के लिए. मैं भी दुआ कर रही हु की वो जल्दी ठीक हो जाये.

अब मैं सीधे कहानी पर आती हु, मैं शुरू से काफी चुद्दक्कड किस्म की लड़की थी. जब मैं छोटी थी तब ही मैंने अपने चचेरे भाई से सेक्स सम्बन्ध बना ली. जब मेरी चूचियाँ भी ज्यादा गोल गोल नहीं हुई थी. तब से ही मैं लड़के को देख कर बौखला जाती थी और मुझे अपनी चूचियाँ सहलवाने का मन करता था. पर मेरे घर बाले का निगाह मेरे ऊपर रहता था, उनलोगो को भी पता था की मैं दो नंबर की लड़की हो गई, पर मुझे माँ पापा के तरफ से काफी डाट डपट मिलता था इस वजह से मैं थोड़ी लाइन पर थी. फिर मेरे रिश्ते यानि की शारीरिक सम्बन्ध कई लोगो से भी बना, जो मेरे यहाँ गाय का देखभाल करता था उससे मैं बहुत चुदी थी क्यों की उसका लंड बहुत हो मोटा और लंबा था, मेरे शरीर को शूट करता था क्यों की मेरी ब्रा की साइज ३६ है. लम्बी चौड़ी हु, गांड बहुत मोटा और पीछे से उभरा हुआ है. होठ मेरे बहुत गुलाबी और गाल मेरे सेव की तरह है.

शादी के कुछ दिन बाद तक तो मेरे पति मुझे अच्छी तरह से चोदता था पर बाद में बीमारी की वजह से उनका लंड काफी छोटा हो गया और फिर मेरे किसी काम का नहीं बचा. क्यों की मुझे कुछ भी नहीं होता था, एक ही आदत मुझे अपने पति की अच्छी लगती थी. चोदने के पहले वो मेरे सारे कपडे एक एक कर के उतारते थे. फिर बाद में मेरा ब्रा और मेरी पेंटी निकलते थे, और लगातार मेरे पुरे शरीर को जीभ से छूटे रहते थे. मजा तो ज्यादा तब आता था जब वो अपने जीभ से मेरी चूत के अंदर डाल कर हिलाते थे बहुत भी जाजवाब लगता था. मैं तो पानी पानी हो जाती थी. मुझे उस समय गजब का एहसास होता था. मैं खूब एन्जॉय करती थी. मेरे चूत से निकला हुआ पानी वो जीभ से चाट जाते थे, फिर वो ऊपर आकर मेरे चूच पर जीभ फिराते थे फिर वो मेरे निप्पल को हलके दाँतों से काटते थे, मेरे रोम रोम खिल उठता था. फिर मैं भी वाइल्ड हो जाती थी और मैं भी पति को लिटा कर उनके लंड को फिर आंड को और फिर गांड को जीभ से चाटती थी, उनको भी बहुत मजा आता था.

ये सब चलता था फिर मैं तो पागल हो जाती थी. आप यूँ समझिए की ये रोज रोज होता था फिर जब मैं पूरी तरह से गरम हो जाती थी फिर वो अपने मोटे और लम्बे लंड से चोदते थे. पर अब सब कुछ बदल गया था, क्यों की वो मुझे तैयार तो वैसे ही कर देते थे पर जब मुझे चोदते थे तो आग बबूला हो जाती थी. क्यों की उनका दो इंच का लंड कुछ भी नहीं कर पाटा था. मैं उनको धक्का दे के अलग कर देती और तुरंत भी बाथरूम में जाकर नहा लेती ताकि मन शांत हो जाये. मेरे पति को भी काफी गलानी होती थी. पर मैं कर भी क्या सकती . एक दिन की बात है. मुझे लगा की ज़िंदगी तो जीने की चीज है. मैं क्यों घुट घुट कर मर रही हु. क्यों ना अपने वासना की आग को किसी और से बुझा लु. क्यों की मुझे ऐसे भी बहुत लोगो से पहले भी चूद चुकी हु, तो सोची की चलो एक बार ये गलती और करती हु. फिर मैं अपने पति को बोली देखो जी आप तो कल मुंबई जा रहे हो. गर्मी ज्यादा है. मैं घर में बोर हो चुकी हु. मुझे दो तिन दिन का मनाली का पैकेज दिलवा दो. मैं आराम कर के आती हु, पति बोले ठीक है. और फटा फट उन्होंने एक फाइव स्टार होटल में मेरा कमरा बुक करवा दिया. और फिर बोले की तुम ऑडी कार ही ले जाओ और ड्राइवर भी ले जाओ, ड्राइवर के लिए भी उसी होटल के पास एक कमरा दूसरे होटल में बुक करवा दिया.

और मैं फिर मनाली चली गई. मनाली मैं शाम को करीब आठ बजे पहुंची, फिर मेरा ड्राइवर मुझे छोड़ कर वो होटल के निचे ही घूम रहा था, तब मैंने उसके मोबाइल पर फ़ोन किया की रघु तुम कहा हो मेरे लिए एक सर दर्द की दवा ला दो. मेरा सर बहुत दुःख रहा है. वो तब तक मैं निचे बार में जाकर करीब तिन पेग शराब पि ली. और हल्का सा कहना भी खा ली. पर मुझे नशा आ गया था, काफी नशा तभी रघु का फ़ोन आया मैडम जी. दबाई ला दिया हु. मैं बोली ठीक है मैं आती हु. तब तक वो दरवाजे के बाहर बालकनी में खड़ा था. फिर मैं जाकर दबा ली. रघु को बोली रघु जाओ तुम कहना खा लो और मैंने अपने पर्श से पांच सौ रुपया निकाल कर दी. पर उसने कहा नहीं नहीं मैडम जी मैंने कहना खा लिया.

मेरा सर का दर्द चूत नहीं रहा था, रघु पूछा मैडम जी आपका सर दर्द ठीक हुआ, तो मैंने कहा नहीं नहीं अब तो और भी जोर से होने लगा है. तो रघु बोल मैडम जी ऐसे में आपको पीना नहीं था. पर मेरे पास ठंढा तेल है गाडी में आप कहे तो ला दू. मैंने कहा ठीक है ल दो . और वो तुरंत ही निचे जाकर ठंढा तेल ला दिया तब तक मैं अपना बाल खोल कर और नाईट गाउन पहनकर लेट रही थी, रघु आया, मैंने कहा रघु तुम रख दो तेल अब मैं उठ नहीं पाऊँगी, क्यों की मेरा आँख बंद हो रहा था तब रघु बोल मैडम जी अगर आप बुरा नहीं माने तो आप सोये रहे मैं तेल लगा देता हु. आपके सर में मैं काफी अच्छे तरीके से लगा दूंगा क्यों की जब मेरी बीवी का ऐसा दर्द करता है तो मैं ही मालिश कर देता हु. मैंने कहा ठीक है. और वो मुझे बालों में तेल लगाने लगा. मुझे उसका छूना अच्छा लगने लगा फिर मैंने कहा रघु तुम मेरे हाथ में भी तेल लगा दो. वो मेरे हाथों में भी तेल लगाने लगा. फिर मैंने कहा पैर में भी लगा दो. और मैंने अपने गाउन को घुटने से ऊपर उठा दिया, अब रघु मेरे मोटे मोटे गोर गोर पैर को देखने लगा और मालिश करने लगा. मैंने कहा शर्म मत करो, और फिर मैंने अपने पर्श से दो हजार रुपया निकाली और रघु को देने लगी पर वो मना कर दिया बोला, नहीं मैडम जी. मेरा तो फर्ज है. आप यहाँ अकेले है अगर मैं नहीं देखूंगा तो और कौन देखेगा.

मैंने कहा रघु तू कितना अच्छा है. रघु बोला मैडम जी ये तो आपका बड़प्पन है. की आप ये बात बोल रही है. मैडम जी आपको मैं एक बात पुछू, आप बुरा तो नहीं मानोगे, मैंने कहा नहीं नहीं पूछो, मैडम जी पहले तो आप बहुत खुश रहते थे पर आज कल बहुत उदास रहते हो. पहले आप बहुत सजते सवरते थे पर आजकल बहुत नार्मल रहते हो. क्या कारण है. मैं भी भावना में बाह गई और रोने लगी. बोली रघु आजकल सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है. और मैंने उसको खुलकर सब कुछ बता दी. मैं नशे में थी और आपको तो पता है की नशे में इंसान सब कुछ सही सही बोलता है. फिर क्या था रघु उठ गया और जाने लगा. बोला ठीक है मैडम जी मैं चलता हु आप आराम करो, मैंने रघु का हाथ पकड़ लिया, और बैठाया, बोला रघु क्या तुम मेरी मदद करोगे, रघु कहने लगा मैडम जी अगर साहब को पता चल जायेगा तो . तो मैंने कहा कभी पता नहीं चलेगा. और फिर रघु मुस्कुरा दिया. शायद उससे भी लाटरी लग गई.

उसके बाद मैंने अपना गाउन उतार दिया. मेरी चूचियाँ बाहर आते ही रघु देख रहा था, मैंने उसका हाथ पकड़ी और अपने चूची पे रख दिया वो हौले हौले दबाने लगा. फिर क्या था दोस्तों वो भुखुे भेजदिए की तरफ मेरे ऊपर टूट पड़ा. मजा आ गया मुझे वो मेरे शरीर को इधर से उधर सहलाने लगा और फिर मेरी चूत में ऊँगली डाल कर अंदर बाहर करने लगा, मैं सिसकिया ले रही थी. और फिर मैंने उसको बोला चलो अब चाटो वो तो यार. आह आह आह करके मेरी चूत को चाटने लगा. और फिर मेरे चूचों को मसलने लगा. मेरे गांड में ऊँगली डालने लगा. मैं वैचैन हो गई. और फिर क्या था जब मैंने उसका लंड निकाला उसके पेंट से दंग रह गई.

मोटा काला लंड करीब आठ इंच का फनफना रहा था सलामी दे रहा था. मैंने तुरंत ही उसको अपने चूत के ऊपर रख ली और फिर शुरू हो गया असली खेल, वो मुझे उल्टा के पलटा के खड़ा कर के डौगी बना के चोद रहा था. और मैंने भी हाय हाय कर के छुड़वाने लगी. रात भर करीब करीब ३ बार मैंने खूब मजे लिए. फिर क्या बताऊँ दोस्तों . मनाली का तिन दिन का पैकेज मेरे ज़िंदगी का सबसे खूबसूरत पैकेज था. मैं खूब एन्जॉय की. अब मैं बहुत खुश हु. क्यों की मुझे अब सब कुछ मिल गया है. जब भी मुझे वाइल्ड सेक्स की जरूरत होती है ड्राइवर को बुला लेती हु.

loading...

Online porn video at mobile phone


sexnxx देसी माँ ko batharum मुझेissex storiesshindiसभी दोस्तों के साथ मिलकर अपनी सगी बहन को chodaAntavarsana sagi bhabhi kigril Frend or uski maa ko choda hindi nonveg sex storyantwasna highway gangbangmummy or mausa g ki sex kahaniशहरों की चुदाई कहानीदो मर्दो ने मुझे चोदाभाई ने सेक्सी बहन को पटाकर चोदने की कहानियांgoa me daru pila kar. chodaमैं खूब चुदाई कई दिनों तकपत्नी आपस में बदलकर गांड फाडू चुदाई कहानियांमामा जी ने मेरी माँ को जमकर चोदा पांच रोज स्टोरीवेश्या पत्नी को चुदवाया हिन्दी अन्तर्वासना Meri wife ko nanga dans karwaya dost k sath sex kahanighar ka maal chudaiझाडू लगाते भाई मेरी बुर देखी चुदाई कहानीWww.hot girl ko foji ne choda hindi kahaniभाई भहण पोर्ण कहाणीlipistic our ganji kachha bala sex vedeoसाडी उठा बुर पेलाईxxxthandi me babi ki codaiचुत चुदाई की कहानी हिन्दी मेँBoss ne meri biwi ko fasaya apne jaal me fucking story in hindigay bhanje ko saree pahnake mama ne suhagraat manai hotel me hindi gay storyबायकोच लंडPapa NE choot fad di Mummy samajhkar www मराठी बहिण भाऊ कथा सेकस.comझाटदार चूत के दर्शन कहानीGanv vala Chacha chachi room rat choda ghr xxx video Www.sistersexkahani.comससुर बहू की सेक्स स्टोरी इन हिंदीGhar ka maal ghar me chudai online sex story.comkarwa choth ke din chudai dever ne kiमा के साथ Sex देशी काहानी hindimaine papa ke lund ko pakda or papa jaag gayeदेशी टीन क्यूट कमसिन लड़की की पहली चोदाईporn bap bate saxkahane xyzभाई बहन अम्मी Sexy storyxxx.khaniya.rupyo.k.liye.chud.gai.कमला को चोदातुम तो सीलबंद लड़की की गांड मारी देसी वीडियो xxx.comsister ki chudai ki nanga karkeWww.sixe mom ko chodkar pagnet kiya desi chodai khani.comboyfriend ke dosato ne Meri chud ki payas bujaiरात में विधवा आंटी को चोदाHindi sex stories ruएक्स एक्स दादाजी एक्स एक्स एक्स हिंदीटरेन कसकस xxx विडीयोcar sikane ke badle bhen ne chut chatne ko diभाई मुझे चुद वाना हैदादी ने दुकान दार से चुदवायासाले कि पत्नी चूदखेत में ले जाकर लड़की की चूत और गांड मारी लड़की चिल्लाईबहन को नगा नहाते देखा पहली बार सेक्सी कहानियाँxxx ma ki chudai maxi me ki daaru maa daaru pe hui thi hindi storeysहोली के बहाने जबदस्ती चोद दियाholi me blouse fad chudai kahaniअन्तर्वासना हिंदी मम्मी को पापा ने चोद लड़के के सामनेPelo madhachod konanveg story lesbianBhai bahan panty kanhaiyaससुर बहू की सेक्स स्टोरी इन हिंदीयोगा करते करते चुत कि पयास Xnxx tvगर्मी का मौसम मे गरम चाची का तेल मालिस हिन्दी चुदाई कहानीमाँ को सर्दी लगी तो मुझे अपने पास सुलाया और सेक्स किया स्टोरीbibi ke chakkar me sasu ma chud gye hindi sexy storyEk patni ka primoris se sex banana Hindi video sexपेली पेला वाला असली xxx MP 4 विडियोस्कूल गर्ल की चुदाई बाइक पर kahaniAmmi ne chodna sikhaya kahaniyaसुहाग रात के दिन पत्नी को कैसे करु चोद के खुश अल्लाहाबाद में तैयारी करने आई सगी छोटी बहन के साथ जवानी के मजे लिया जाड़े की रात में सेक्स कहानीपटाकरचुदाईX story pati ke boss ne bur far dihindi sexstories प्रभा को चोदा www.kamshin कुवारी ladki ko pata ke चोदा लड़की मेरा मोटा lund dekh kar dar gai pehli chudai se behosh ho gai hindi sexy store.comचूची दिवाकर छोड़ने की कहानीMarathi nagdi mami nonveg storyMothi gand gang bangsex kathaट्रैन की भीड़ में अंकल ने भाई के सामने बहन की गांड छोड़ि सेक्स स्टोरीदेबर भाभि के सेकसी हिन्दी मे बोलने बालाmarathibrathersistersexstorybiwi ko security guard se chudte hue dekha story