बुआ की मदमस्त चूत की चुदाई

मेरा नाम राजू है, मैं २१ साल का हु, मेरे घर में मैं मेरी माँ और मेरे पापा और साथ में मेरी बुआ रहती है, मेरी बुआ की उम्र ३२ साल है, वो बिधवा है शादी के ३ महीने बाद ही उनके पति का देहांत हो गया था हार्ट अटैक से, तब से वो यही रह रही है अपने ससुराल नहीं जाती है. मेरा और मई बुआ का कमरा ऊपर है और पापा मम्मी का कमरा निचे है, ऊपर दो कमरे है जिसमे एक में मैं और एक में मेरी बुआ सोती है, बीच में सिर्फ दिवार है पर बाथरूम अटेच है, मेरी बुआ काफी हॉट है उनका साइज ३६-३४-३६ है, वो देखने में भी काफी खूबसूरत है,

एक दिन रात को मेरी नींद अचानक खुल गयी, तो बुआ के कमरे से अजीब अजीब सी आवाज़ आ रही थी, मैं तुरंत बाथरूम में गया तो उनके तरफ का बाथरूम का दरवाजा थोड़ा खुला था मैंने झांक के देखा तो देख कर दंग रह गया, कमरे में लालटेन जल रहा था, हलकी हलकी रौशनी थी, मेरी बुआ बिलकुल नंगी थी उनके दोनों बूब तने हुए थे, उनकी निप्पल भी खड़ा था और बुआ अपनी दो उँगलियों से अपने चूत में कस कस के डाल रही थी, और आआह आआह आआह आआह आआह की आवाज़ निकल रही थी, मेरे बदन में आग लग गयी मेरी साँसे तेज हो गयी मेरा लैंड खड़ा हो गया, मैंने अपना लंड निकला और उसपर थोड़ा थूक लगाया और मूठ मरने लगा, उसके बाद मैंने अपना वीर्य बहार निकल दिया, तब तक बुआ भी शांत हो गयी थी मैं अपने कमरे में वापस आके सो गया.

दूसरे दिन सुबह जब उठा तो बुआ नाइटी में थी, बड़े बड़े बूब और चौड़ी गांड और मटक मटक के चलना, मेरा तो बुआ को देखने का नजरिया ही चेंज हो गया था, अब तो मैं अपनी वासना भरी निगाहों से देखता था, उस दिन मैंने करीब ४ बार मूठ मार वो रात की सीन को सोचकर, रात को फिर मैं जग कर देखा पर उस दिन बुआ ने कुछ भी नहीं किया सिर्फ अपनी चूचियाँ मसल रही थी, क्यों की अपनी चूचियों की मालिश तेल से कर रही थी, रात को चूचियों को देखकर ही सो गया,

दूसरे दिन सुबह सुबह ही मम्मी जगाने आ गयी, बोली राजू बेटा जल्दी उठ जाओ तुम्हे मुझे स्टेशन छोड़ने जाना है, तुम्हारी नानी की तबियत ख़राब है, मैं और तुम्हारे पापा दोनों देखने जा रहे है, मैं फटाफट तैयार हो गया और मम्मी को छोड़ने स्टेशन चला गया, अब घर में मैं और मेरी बुआ ही थी, वापस आके मैंने अपने लैपटॉप पे एक पोर्न मूवी लगाया और देखने लगा, मैं पोर्न देख भी रहा था और मूठ भी मार रहा था, तभी कमरे में बुआ आ गयी, वो मुझे पोर्न देखते और मूठ मरते देख ली, मैं फटा फट अपने लंड को अंदर किया और लैपटॉप बंद किया, तभी बुआ कुछ बोले ही कमरे से वापस चली गयी, मैं डर गया की पता नहीं अब क्या होने बाला है, हो सकता है बुआ माँ को ना सब कुछ बता दे.

दिन बीतता गया मैं अपने दोस्त के साथ घूमने चला गया, शाम को लेट आया, और अपने कमरे में लैपटॉप पे गाना सुन रहा था, तबी बुआ आयी और बोली राजू जल्दी से खाना खाने निचे आ जाओ, मैं तुम्हारा इंतज़ार कर रही हु, मैं हाथ मुह धोकर खाना खाने बैठ गया, मैंने देखा बुआ उस दिन जो ब्लाउज पहनी थी उसका गाला ज्यादा बड़ा था इस वजह से उनकी चुचिया बाहर निकलने के लिए बेताब थी, मैं देख रहा था तभी बुआ मुझे देखि और समझ गयी की मैं उनकी बूब को ही देख रहा हु, वो कुछ भी नहीं बोली, खाना खाया और सोने जाने लगा, तभी बुआ बोली रवि आज मुझे तुमसे कुछ बात करनी है, मैंने कहा हा हा बोलो बुआ क्या बात है, मैंने डर गया था मुझे पता था आज उन्होंने मुझे मूठ मारते हुए देखा था | ठीक है मेरे कमरे में तुम थोड़े देर बाद मिलो मैं आ रही हु, मैं अपने कमरे में कुर्सी पे बैठा रहा बुरा का आने का इंतज़ार कर रहा था.

बुआ आयी और बुलाई मैं उनके कमरे में आया वो बोली तुम आज क्या कर रहे थे मैंने कहा कुछ भी तो नहीं, बोली सच सच बता, मैंने कहा कुछ भी तो नहीं तो बुआ ने कहा मैंने तुम्हे ब्लू फ्लिम देखते और मूठ मरते देखि, ये बात मैं भैया और भाभी को बताउंगी, तो मैंने कहा सॉरी बुआ अब ऐसा नहीं होगा, गलती हो गयी, तो बुआ बोली मैं तो बोलूंगी की तुम्हारा बेटा क्या क्या देखता है, और क्या क्या करता है, मैंने कहा बुआ प्लीज पापा को मत कहना और मैं उनके पैरो पे गिर पड़ा और रोने लगा, बुआ बोली चल चल नाटक मत कर, तो मैंने कहा बुआ आप जो जो कहोगे वो मैं करने के लिए तैयार हु, तो बोली ठीक है, तुम्हे मेरा कहना मानना पड़ेगा, मैंने कहा ठीक है, वो बोली की तुम्हे मेरे चूत चाटना पड़ेगा मैंने कहा थी है.

वो बेड पे लेट गयी और अपनी नाइटी को उठा दी वो अंदर पेंटी नहीं पहनी थी, मैं तो बुआ का चूत देखकर हैरान रह गया था मोटा मोटा चूत हलके हलके बाल मैंने उनके पैर को थोड़ा अलग किया और बीच में बैठ गया, और आज जैसे मैंने ब्लू फिल्म में देखा था सेम उसी तरह से उनके चूत को चाटने लगा, बुआ उम्म्म्म उम्म्म्म्म उउउउफ्फ्फ्फ्फ़ उफ्फ्फ्फ्फ़ उफ्फ्फ्फ्फ़ कर रही थी फिर मैंने अपनी जीभ उनके चूत में घुसा दी, वो तो सिहर गयी, बोली साले तुम्हरे तो गजब का आता है, कहा से सीखा ये सब तो मैंने कहा मैं रोज ब्लू फिल्म देखता हु, वो बोली इंडियन या अंग्रेजों बाल तो मैंने कहा देसी में तो जान ही नहीं होता है असल मजा तो अंग्रेजों बाला में ही होता है. उन्होंने मेरा बाल पकड़ के अपने चूत में मेरे मुह को सटाने लगी, मेरी सांस बंद हो रही थी और कह रही थी चाट साला चाट, मादरचोद बहन चोद चाट मेरे चूत को, और वो झड़ गयी.

फिर वो मेरे लंड को अपने मुह में लेके चूसने लगी, थोड़े देर बाद वो 69 के पोजीशन में आ गयी मैं उनके चूत को चाट रहा था और वो मेरे लंड को अपने मुह में ले रही थी मेरी अुंगलिया उनके गांड में थी और उनकी उँगलियाँ मेरे गांड में, करीब १० मिनट तक ऐसे ही एक दूसरे को चाट रहे थे. तभी वो बोली चल मुझे अब चोद दे अब सहा नहीं जा रहा है, मैंने फिर उनके बूब को पिने लगा, और निप्पल को उँगलियाँ से दबाने लगा, वो मेरे बालों को सहलाने लगी, फिर मैंने अपना लंड उनके बूब में घुसाने लगा वो अपने बूब को पकड़ ली और मैं थोड़ा थूक लगा के उनके बूब के बीच में घुसाने लगा, तो बुआ बोली आज तक मैंने ऐसा मजा नहीं लिया रे.

पूरे रूम मे हम दोनो की गरम साँसे और सिसकिओं की आवाज़ आ रही थी. इस विच बुआ मुझे गाली भी दे रही थी और गन्दी गन्दी बात बोल रही थी, फिर मैंने बुरा के मुहे में सारा माल डाल दिया फिर बुआ, फिर बुआ मेरा लंड अपने मुह में ले ली, थोड़ा देर चाटने के बाद मेरे लंड फिर से खड़ा हो गया, तब बुआ बोली अब मत तड़पाव मुझे, डाल दो इसे मेरी चुत मे अभी के अभी अब बर्दास्त नहीं हो रहा hai, बुआ ने लंड को अपने हाथ मे पकड़ के कहा.मैने बुआ को वही बेड पर टांगे फाड़ के लिटाया और अपना लंड चुत मे घुसेड दिया. बुआ के मूह से आआईईईई उफ़्फ़्फ़्फ़्फ़्फ़्फ़ निकल पड़ा.

मेरा आधा लंड बुआ की चुत मे था और उसकी सिसकिया बढ़ती जा रही थी.मैं खचा खच पेले जा रहा था, मैं पूरा बुआ के उपर पूरा चढ़ गया था और उसे ज़ोर ज़ोर से धक्के दे रहा था. बुआ भी अपनी बड़ी गान्ड की उठा उठा के मेरा लंड ले रही थी. कमरे मे हम दोनो की सेक्सी कामुक आवाज़े आ रही थी. 20 मिनिट्स तक मैने ऐसे ही बुआ को चोदते रहा. और मैंने एक सिसकी लेते हुए सारा का सारा माल बुआ के चूत में डाल दिया, कुछ देर मे सिकुड के मेरा लंड बाहर आ गया. मैं और बुआ दोनो ही बेड पर लेट गये. बुआ उल्टी लेती हुई थी और मेरे हाथ से मैं उसकी गान्ड को सहला रहा था.तभी बुआ बोली क्या हुआ, पिच्छवाड़े को क्यूँ सहला रहा है, रवि . बुआ बोली. मैने कहा, मुझे आप की गान्ड मारनी है बुआ, धात पागल, अब गांड भी मारेगा क्या …बुआ ने कहा. मैंने कहा बुआ करने दो ना प्लीज़! बुआ हंस पड़ी और उसने मेरा लंड अपने हाथ मे ले लिया. वो लंड को हिलने लगी थी और लंड फिर से अपनी खोई हुई लंबाई को पाने लगा. 1 मिनिट मे तो बुआ ने लंड पूरा टाइट कर दिया.

बुआ ने अब लंड को मूह मे भर के चूसना चालू कर दिया. मेरा लौड़ा अब फिर से खड़ा था और बुआ की गान्ड मरने के लिए मैंने बुआ के गांड में थोड़ा सा थूक लगाया, बुआ वही बिस्तर मे घोड़ी बन गई. मैने बड़ा सा लंड बुआ की गान्ड पर रखा और सही जगह पे सेट किया, मैने एक धक्का मारा लेकिन लंड अंदर नही घुसा. बुआ की गान्ड टाइट थी इसलिए लंड नही घुस रहा था. फिर उन्होने गान्ड के उपर लोड्‍ा रखा. मैने एक धक्का मारा और बुआ के मूह से उईईइ माआआ मार गई निकल पड़ा. मैंने कहा क्यों बुआ अभी तो सिर्फ़ सूपड़ा ही अंदर घुसा और आप उईई मा कर रहे ho. मैने लंड के सूप़ड़े को अंदर ही रहने दिया और मैं हिला नही. एक मिनिट के बाद मैने फिर से गान्ड पर एक झटका फिर दिया अब के आधा लंड गान्ड मे घुस गया बुआ के. बुआ ने फिर से चीख दिया. मैने बुआ के कंधो को पकड़ा और फिर धीरे धीरे कर के पूरा लंड गान्ड मे कर दिया., बुआ की गान्ड बहुत ही गरम थी और टाइट भी.अब मैं हौले हौले से झटक देने लगा और बुआ भी अपनी गान्ड को हिला रही थी. आ आ ओह ओह उईईइ उईईई उफ्फ्फ आआह साथ ही मे वो अपनी गान्ड को उठा उठा के गान्ड मरवा रही थी. फिर मैंने अपना वीर्य उनके पीठ पे डाल दिया, बुआ ने अपनी कपडे से अपनी गान्ड को और मेरे लंड को सॉफ किया. फिर वो बोली तू तो बड़ा ही चोदु है रे, आज तो मैं खुश हो गयी, अब तो मैं रोज बुआ को चोद रहा हु, वो आजकल बहुत ही खुश रहती है, मैंने उनसे वादा किया है की मेरी शादी हो जाने के बाबजूद भी मैं आपको चोदते रहूँगा.