पिकनिक पर दोस्त से बीबी बदल कर गरमा गर्म चुदाई

Dost ki biwi ki chudai: हेल्लो दोस्तों मैं आप सभी का नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम में बहुत बहुत स्वागत करता हूँ. मैं पिछले कई सालों से इसका नियमित पाठक रहा हूँ और ऐसी कोई रात नही जाती जब मैं इसकी रसीली चुदाई कहानियाँ नही पढ़ता हूँ. आज मैं आपको अपनी स्टोरी सूना रहा हूँ. मैं उम्मीद करता हूँ कि यह कहानी सभी लोगों को जरुर पसंद आएगी. ये मेरी जिन्दगी की सच्ची घटना है.

हम मेरा नाम शाकिर है। मैं मुम्बई में रहता हूँ। मुंबई में सैलून की मेरी बहुत बड़ा शो रूम है। मेरी उम्र 36साल की है। मेरा कद 6 फ़ीट है। मेरा लंड 9 इंच का है। मैं देखने में बहुत हो गोरा हूँ। मेरा लंड भी मेरी तरह बहुत गोरा गोरा लाल लाल  है। मेरे लंड का सुपारा गुलाबी रंग का है। मुझे नई नई चूत को चोदना मेंबहुत ही आनन्द प्राप्त होता है। मुझे लड़कियों के गुलाबी होंठ बहुत अच्छा लगता हैं। मैंने बहुत लड़कियों के बूब्स को दबा दबा कर पिया है। लड़कियां मेरा लंड लॉलीपॉप की तरह चूसती हैं। मुझे लंड चुसवाने में बहुत मजा आता है। रात को मै सपने में चुदाई करते करते झड़ जाता हूँ।  दोस्तों आपका समय बरबाद ना करके। मै अब अपनी कहानी पर आता हैं।

दोस्तों मै शादी शुदा हूँ। मेरी शादी को 6 साल हो गए थे। मै अपनी बीबी के साथ नैनीताल आया था। मेरा दोस्त भी मेरे साथ अपनी बीबी के साथ आया था। हम दोनों अपनी बीबियों को चोद कर काफी बोर हो चुके थे। मुझे उसकी बीबी बहुत ही अच्छी लग रही थी। हम दोनों की शादी एक ही साल हुई थी। उम्र भी हम दोनों की बराबर की थी। हम दोनों बैठे एक दिन शराब पी रहे थे। हम अपनी बीबियों के बारे में बात कर रहे थे। हम दोनों ही अपने बीबियों को चोदकर परेशान हो चुके थे। वही चूंची वही चूत को अब चोदने का मन नहीं कर रहा था। हम दोनों एक ही रूम में थे। रूम काफी बड़ा था और बेड भी दो था। हम लोग एक हीरूम में शिफ्ट हो गए। हमने आज अपनी बीबियों को बदल कर चोदने की बात कर रहे थे। लेकिन बीबियों को ये मंजूर नही था। हम लोग नशे में एक दूसरी की बीबियों के साथ खेल रहे थे। कभी मै उसकी बीबी की चूंची को दबा देता तो कभी वो मेरी बीबी को दबा रहा था। उसकी बीबी का नाम रजिया और मेरी बीबी का नाम शकीना है। दोनों को पहले तो बुरा लग रहा था।

फिर हम दोनों की बीबियाँ भी मजा लेने लगी। हम लोग साथ ही बैठे थे। रजिया की उम्र मेरी बीबी से कम थी। वो एक एकदम चिकनी माल लग रही थी। वैसे मेरी बीबी भी बहुत अच्छी है। लेकिन उसे चोद चोद कर मै थक चुका था। मुझे मेरे दोस्त सलीम की बीबी रजिया अच्छी लग रही थी। उसे भी मेरी बीबी अच्छी लग रही थी। हम लोग एक दुसरे के बीबी की तारीफ़ कर रहे थे। सलीम ने मेरी बीबी को पकड़ कर अपने बाहों में भर लिया। मैंने भी उसकी बीबी को बाहों में भर लिया। सलीम मेरी बीबी शकीना के साथ अपने बेड पर लेट गया। मै भी उसकी बीबी रजिया के साथ अपने बेड पर लेट गया। हम दोनों एक दुसरे की बीबी पर चढ़ेहुए थे। रात के करीब 11 बज रहे थे। मै रजिया की कोमल से बदन पर मैं लेटा हुआ था। उसकी फिगर36,30,38 था। उसके नाजुक होंठ पे मै अंगुलियों को रख कर चूमने लगा। रजिया की नाज़ुक गुलाबी होंठो पर अपने होंठो को चिपका कर चूंसने लगा। उधर सलीम भी मेरी बीबी की टांगों में टांग फसाये किस कर रहा था। रजिया की कमल की पंखुड़ी जैसी होंठो को मैं चूस रहा था। मेरा लंड खड़ा होकर रजिया की चूत में चुभ रहा था। रजिया भी मेरा साथ दे रही थी। वो आँख बंद किये किस कर रही थी। रजिया गरम गरम साँसों को छोड़ रही थी। रजिया की साँसे तेज होने लगी। मैंने अपने हाथ को रजिया की बूब्स पर रख दिया। रजिया की होंठ चूसते चूसते इसकी बूब्स को दबा रहा था।

रजिया सिसकारियां भर कर अई—-इसस्स्स्स्स्स्स्स्—— अई—-इसस्स्स्स— सी —सी—सी कर रही थी। रजिया ने उस दिन काले रंग का कुर्ता और लाल रंग की लैगी पहनी थी। मैं उसे बेड से उतार कर नीचे खड़ा करके किस करने लगा। रजिया से चिपक होंठो को चूसते चूसते मैं बार बार उसकी चूत में अपने खड़े लंड को लगा रहा था। सलीम भी मेरी बीबी की चूंचियों को दबा दबा कर चुम्मा चाटी कर रहा था। रजिया के होंठ को मैं जोर जोर से चूस चूस कर काट रहा था।  सलीम मेरी बीबी के कपडे उतारने लगा। मै ऊपर से ही रजिया के चूत पर अपने हाथों को फेर रहा था। मैंने भी रजिया के कपड़ो को उतारने लगा।मैंने रजिया के दोनों हाथ उठाकर उसकी कुर्ते को निकाल दिया। वो गुलाबी रंग की ब्रा को निकाल दिया। रजिया की गोरे गोरे मम्मो के दर्शन किया। उसकी निप्पल को अपनी अँगुलियों से पकड़ कर दबाने लगा। उसकी निप्पल को छूते ही उसने अपनी आँखों को बंद करके सी.. सी…सी.. इस्स…. उफ्फ करने लगी। मैंने रजिया की बूब्स को अपने मुँह में भर लिया। उसकी बूब्स को पीने लगा। उसकी बूब्स का मीठा मीठा दूध पीने लगा। उसके चूंचियों से दूध निकल रहा था। मैंने उसके दूध को दबा कर पी रहा था। सलीम ने मेरी बीबी सेक्स करना शुरू कर दिया। मैंने जल्दबाजी न करते हुए उसको तड़पा कर चोदना चाहता था।

इसीलिए मै उसे तड़पा रहा था। मैंने रजिया की लैगी को सरका कर नीचे कर दिया। मैंने उसे बेड पर लिटाकर उसकी लैगी को निकाल दिया। उसकी गुलाबी रंग की पैंटी बहुत ही आकर्षक और मनमोहक लग रही थी। मैंने उसकी टांगो को फैलाकर उसकी पैंटी को सीधा करके उसकी पैंटी को निकाल दिया। रजिया कीगोरी चिकनी चूत के दर्शन टांगो को फैलाकर के किया। रजिया की चूत को चाटने को जीभ लगाकर चाटने लगा। रजिया की चूत में मैंने अंगुली को डाल कर चोदने लगा। रजिया ने चूत गीली कर रखी थी। मैं रजिया की चूत में अंगुलियों को पेलने लगा। मैंने रजिया की चूत में अपनी चार अंगुलियों को एक साथ डाल दिया।रजिया की चूत ने मेरी अंगुलियों को अपने माल से भिगा दिया। मैंने अपनी अंगुलियों से सारा माल चाट लिया। मैंने अपनी जीभ उसकी चूत में डाल कर अंदर तक घुसा दिया। उसके चूत के माल को मै अंदर तक साफ़ करने लगा। रजिया मेरा सर अपने चूत में दबा रही थी। मैंने रजिया के चूत के दाने को काट कर अपने होंठो से पकड़ कर खींच रहा था। रजिया सिमट कर “——अई—अई—-अई——अई—-इसस्स्स्स्स्स्स्स्-कर रही थी। कुछ ही देर में वो अपना चूत चुपचाप सिसकारियां ले कर चटवाने लगी। मैंने अपनी अंगुली से ही रजिया की चूत में मुठ मार कर रजिया को गरम कर दिया। उधर सलीम मेरी बीबी की चूत में लंड डाले गपा गप पेल रहा था। मैंने भी झट से अपना पैजामा उतारा। रजिया मेरे बड़े से 9 इंच के लौड़े को देख करखुश हो गई। मैंने अपना लौड़ा रजिया की हाथों में देकर चूसने को कहा। रजिया मेरे लंड को सहलाते हुए अपने हाथों में ले लिया। मेरे कटे लंड का सुपारा गुलाबी रंग का फूला हुआ दिख रहा था। रजिया ने पूरा लंड अपने मुँह में भर लिया। मेरे लंड की नसें फूली हुई थी। मेरे लंड को रजिया मुठ मार के आगे पीछे करके लंड को सहला रही थी।

मेरे लैंड को दोनों गोलियों को बार बार अपनी मुँह में रख कर टॉफी की तरह चूस रही थी। मैंने रजिया के मुँह में ही अपने लंड को आगे पीछे करके चोदने लगा। मेरा लंड रजिया के गले से नीचे उतर रहा था। रजिया उ…उ..उ…उ….उ…उह कर रही थी। मैंने रजिया को उठाया। रजिया को नीचे ही लिटाकर मैंने भी उल्टा होके उसकी चूत में उँगली करने लगा। रजिया की चूत में उँगली करते ही रजिया मेरे लंड को दबा कर चूस रही थी। रजिया की चूत से उसका पानी लावा की तरह गर्म गर्म निकलने लगा। रजिया मेरे लंड को खींच खींच कर अपनी चूत की तरफ करने लगी। मै समझ गया कि अब रजिया चुदवाने को बेकरार हो रही है। मैंने रजिया के दोनों टांगों को फैला कर उसकी चूत में अपना लंड लगाने लगा। अपना लंड रजिया की चूत पर रख कर रगड़ना शुरू किया। रजिया के चूत का दाना मेरे लंड के छेद में फंस रहा था। रजिया ने तड़पते हुए मेरा लंड अपनी चूत में डालने लगी। मैंने भी अपना लंड धक्का मार के उसकी चूत में घुसाने लगा। मेरा लंड आधे से भी कम घुसा था। रजिया की चीख निकल गई। रजिया “–अहहह्ह्ह्हह स्सीईईईइ—-अअअअअ—-आहा —हा हा हा” करने लगी। मैंने फिर से धक्का मारा और इस बार अपना पूरा लंड अंदर घुसा दिया। सलीम भी मेरी बीबी को जल्दी जल्दी चोद रहा था। मेरी बीबी भी आवजे निकाल रही थी।

रजिया की चूत में मेरा लंड  धमाल मचा रहा था। रजिया “आआआअह्हह्हह…. ईईईईईईई….ओह्ह्ह…अई…अई…अई…..अई..अम्मी…” चिल्ला रही थी। सलीम अपनी बीबी को चुदता देख रहा था। मुझे अपने बीबी के चुदने का कोई फर्क पद रहा था। मैं झटके पे झटका देकर रजिया को चोद रहा था।रजिया भी अपनी कमर को हवा में हिला हिला के चुदवा रही थी। मै रजिया के चूंचियों को दबा रहा था। बीच बीच में उसकी होंठो पर किस भी कर रहा था। अपनी चोदने की रफ़्तार को बनाये रखा। रजिया की चूत का आज मैं सही से भोषडा बना रहा था। सलीम के चोदने के बाद भी उसकी चूत टाइट थी। सलीम को मेरी बीबी को चोदने में कुछ ज्यादा मजा नहीं आ रहा था। मैंने पहले से ही अच्छे से चोद कर अपनी बीबी की चूत का भरता बना डाला था। मेरी भी कुछ ठीक नहीं थी। मैंने सलीम की बीबी रजिया की चूत को चोदकर उसका भरता बना रहा था। सलीम भी मेरी बीबी की चूत चोद कर गांड मारने के लिए झुका रहा था। मेरी बीबी मुझसे गांड मरवाने में हिचकिचाती थी। लेकिन सलीम से तुरंत झुक के गांड मरवाने के लिए तैयार हो गयी। मै भी सलीम की बीबी को जोर जोर से चोद के रुला रहा था। रजिया बार बार मुझे अपने चूत में धीरे धीरे लंड डालने को कहती। मैंने रजिया को उठा के मेज पर बैठा दी। रजिया की दोनों टांगो को खोलकर। मैंने रजिया के चूत में अपना लंड डाल के जोर जोर से चोदने लगा। रजिया की बुर को मैं फाड रहा था। रजिया अपनी हाथों से अपनी चूत को मसल रही थी। मैंने उसकी कमर को पकड़ा और जोर से धक्के मारने लगा। मेरी लौड़े की दोनों रसगुल्ले जैसे गोलियां बार बार हवा में उड़कर। रजिया की चूत के नीचे नीचे लग रही थी। रजिया की कमर पकड़ के धक्के पे धक्का मार रहा था।

रजिया की बुर दुप दुप दुप दुप करने लगी। रजिया “उ उ उ उ उ…….अ..अ..अ.अअ आआआआ… सी सी करके चुदवा रही थी। मेरी बीबी की गांड मार मार कर सलीम झड़ने वाला जो गया। मेरी बीबी के मुह में ही लंड डाल के सलीम मुठ मार रहा था। सलीम मेंरी बीबी के मुँह में झड़ कर। बिस्तर पर मेरी बीबी के साथ टांगो में टांग फसाकर लेट गया। मैंने रजिया को मेज से उतारा। नीचे झुकाकर उसकी छूट में लंड जोर जोर से पेलने लगा। मै अपना पूरा लंड अंदर बाहर कर रहा था। रजिया की गांड हिल रहा था। रजिया भी गांड उठा उठा के चुदवा रही थी। मैंने अपना लंड रजिया की चूत से निकाल कर उसकी गांड की छेद पर रख दिया। मैंने रजिया की गांड में थोड़ा सा थूक लगाया। अपने लंड को जोर से धक्का मेरा लंड  3 इंच अंदर घुस गया। रजिया की गांड फट गई। रजिया जोर जोर से चिल्लाने लगी। उसकी “आऊ….आऊ…. .हमममम अहह्ह्ह्हह…सी सी सी सी….हा हा हा..” की चीखे सुनकर सलीम और शकीना देखने लगे। मैंने एक बार और धक्का मारा इस बार अपना पूरा लंड घुसा दिया। रजिया की गांड मारने में बहुत मजा आ रहा था। रजिया भी अब गांड को हिला हिला के मरवाने लगी। रजिया की अपनी चूत में अंगुली डाल कर मुठ मार रही थी। मैंने उसकी गांड में अपना लंड पेलता रहा। रजिया की गांड फट चुकी थी। रजिया की एक टांग को उठकर उसकी गांड मार रहा था। रजिया कहने लगी मारो और जोर से मारो मेरी गांड। फाड़ डालो फाड़ो फाड़ो मेरी गांड। आज मेरी गांड को अच्छे से फाड़ो। वो बहुत ही गरम हो गई थी। मैं नीचे लेट गया। वो मेरे लंड पर दोनों टांगो को फैलाकर बैठ गई। उसने अपनी गांड के छेद में मेरे लंड को डाल रही है।

मैंने भी अपनी कमर को उठा कर उसकी गांड में पेलने लगा। रजिया भी ऊपर नीचे होकर मेरे लंड को अपनी गांड में अंदर तक ले रही थी। मैंने अपने लंड को पूरा अंदर बाहर कर रहा था। मैंने एक बार फिर से अपने लंड को उसकी चूत में डाल कर चोदने लगा। इस बार मैंने 180 की फुल स्पीड में चोद रहा था। मैं कभी उसकी गांड में तो कभी चूत में अपना लंड डाल कर चोद रहा था। उसकी चूत और गांड दुप दुप कर रही थी। उसकी गांड में लंड डालते ही वो गांड सिकोड़ लेती थी। मेरा लंड उसकी गांड में फंसने लगता। उसकी गांड मारते मारते मेरा लंड भी दर्द कर रहा था। फिर भी मै रजिया की गांड और बुर को चोदने में मस्त था। राजिया कई बार झड चुकी थी। उसकी चूत अब मेरे चोदने से फट रही थी। पहले तो साली बहुत उछल उछल के चुदवा रही थी। मैं अपने लंड को उसकी चूत में धकापेल पेलता रहा। मैंने उसकी चूत का चटनी बना डाला। उधर मेरी बीबी शकीना और सलीम आपस में कुछ चुम्मा चाटी कर रहे थे। वो दोनों चुदाई से थके हारे लेटे हुए। सलीम मेरी बीबी की चूचियों को पी रहा था।

मैंने भी रजिया को चोदने की रक़्फ्तार को बढ़ा दी। मै भी अब झड़ने की चरम सीमा पर पहुच गया था। मैंने रजिया को बिठाकर उसके मुँह के सामने मुठ मारने लगा। रजिया मुँह खोले मेंरे माल के निकलने का इंतजार कर रही थी। मेरा लंड बहुत तेज दर्द होने लगा। मेरा माल अब छूटने वाला था। मैंओ….ह…ह…ह…ह… करता हुआ। अपना सारा माल रजिया की मुँह में गिरा दिया। रजिया सारा माल पी गई। उसने मेरे लंड पर लगे माल को चाट पोंछ कर साफ़ किया। मै बहुत थक गया था। मेरा लंड भी बहुत तेज तेज से दर्द कर रहा था। राजिया मेरे लंड पर मालिश कर रही थी। मेरे लंड का दर्द कुछ देर बाद आरामहुआ। रजिया और हम बिस्तर पर लेट गए। लाइट ऑफ किया और सब लोग सो गए। मैंने रात में में रजिया की एक बार फिर से चुदाई की। मेरे लंड से चुदाई करवाके रजिया भी बहुत खुश थी। मेरी बीबी का तो पता नहीं लेकिन मैं अब भी रजिया की चुदाई करता हूँ। रजिया भी मौका पाते ही मेरे घर चुदवाने आ जाती है। मैं अपनी बीबी और राजिया को एक साथ भी चोदता हूँ। कहानी आपको कैसे लगी, अपनी कमेंट्स नॉन वेज स्टोरी डॉट कॉम पर जरुर दे।